राज ठाकरे के धमकी देने के बाद 70 फीसदी मस्जिद के लाउडस्पीकर का इस्तेमाल बंद कर दिए गए

    0
    161

    मुंबई की कम से कम 72 फीसदी मस्जिदों ने सुबह की अज़ान के लिए लाउडस्पीकर का उपयोग बंद कर दिया है. पुलिस सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. यह घटनाक्रम ऐसे समय में हुआ है, जब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे ने महाराष्ट्र की मस्जिदों से तीन मई तक लाउडस्पीकर हटाने की मांग की है. गौरतलब है कि दिन की पहली अज़ान तड़के करीब पांच बजे दी जाती है. पुलिस के एक अधिकारी ने दावा किया कि करीब 72 फीसदी मस्जिदों ने सुबह की अज़ान के लिए लाउडस्पीकर का उपयोग बंद कर दिया है जबकि बाकी मस्जिदों ने लाउडस्पीकर का आवाज का स्तर कम किया है.

    राज ठाकरे की चेतावनी का असर- उन्होंने कहा कि लाउडस्पीकर पर अज़ान संबंधी विवाद बढ़ने के बाद कानून-व्यवस्था बनाए रखने के मद्देनजर पुलिस ने हाल में धार्मिक नेताओं के साथ बैठक की थी. अधिकारी ने बताया कि बैठक के दौरान लाउडस्पीकर के उपयोग के लिए अनुमति लेने और उच्चतम न्यायालय के निर्देशों का पालन करने को कहा गया था. उन्होंने कहा कि कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. इसके साथ ही राज ठाकरे की धमकी पर असर दिखना शुरू हो गया है. हालांकि देश के कई हिस्सों में मस्जिदों में लाउडस्पीकर से नमाज को लेकर विवाद हुआ है. यूपी में कुछ जगहों पर नमाज नहीं पढ़ने देने की शिकायतें भी आई है.

    पीएफआई ने भी दी थी धमकी- गौरतलब है कि कुछ दिन पहले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने चेतावनी दी थी कि अगर मस्जिदों में लाउडस्पीकर से नमाज पढ़ना शुरू नहीं किया गया तो हम भी मंदिरों में हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे. उनके कुछ कार्यकर्ताओं ने ऐसा किया भी. इधर राज ठाकरे को जवाब देते हुए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने कहा कि अगर किसी ने लाउडस्पीकर पर अपने हाथ लगाने की कोशिश की तो सबसे आगे पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया नजर आएगी.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here