मजबूर पिता की बेटी ने सपना किया साकार पिता करते थे चीनी मील में काम बेटी बनी UPSC पास कर बनी IAS ऑफिसर

दोस्तों कहा जाता है की अगर आपके सपने बड़े है तो आपको मेहनत भी कड़ी करनी होगी ये बार सत्य है अगर आप सच्चे मन से मेहनत करेंगे तो आपको सफलता एक दिन में नहीं तो एक दिन जरूर मिलेगी आज के इस खबर में हम बात करने वाले है एक ऐसे ही चीनी मील में काम करने वाले पिता के बेटी के बारे में….

IAS Ankita Chaudhary Success Story: हरियाणा के छोटे से कस्बे की बेटी बनीं  IAS अफसर, जानिये सफलता की कहानी | IAS Ankita Chaudhary Success Story: The  daughter of a small town in

जी हाँ दोस्तों जिन्होंने अपने मेहनत के दम पर वो मुकाम हाशिल की है जो काबिले तारीफ़ है चलिए जानते है इनके बारे में दोस्तों हम जिसके बार एमे बात कर रहे है सबसे पहले उसका नाम और कहाँ की है आपको वो जान लेनी चाहिए दोस्तों उनका नाम है अंकिता चौधरी (Ankita Chaudhary) .

IAS Ankita Chaudhary success story Mother dies in accident father is worker  in sugar mill daughter becomes IAS officer | मां की एक्सीडेंट में मौत, पिता  चीनी मिल में वर्कर, बेटी बन

और अंकिता चौधरी (Ankita Chaudhary) का घर देश की राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा की एक छोटे से शहर रोहतक में है. दोस्तों आज के उन लड़की के लिए अंकिता चौधरी (Ankita Chaudhary) प्रेरणा की श्रोत है जो कहते कहते है की बड़े-बड़े शहर और कोचिंग में ही पढ़ के यूपीएससी (UPSC) में सफलता हाशिल किया जा सकता है.

दोस्तों अंकिता चौधरी (Ankita Chaudhary) का जीवन काफी संघर्ष भरा है और वो अपने जीवन में बहुत संघर्ष की है तब जाकर उनको ये सफलता आज हाथ लगी है. अंकिता चौधरी (Ankita Chaudhary) बचपन से ही पढने में काफी तेज-तरार छात्रा थी वो मैट्रिक इंटर की पढाई कम्प्लीट करने के बाद ग्रेजुएशन देश की राजधानी दिल्ली के हिन्दू कॉलेज में ली.

मां की मौत के सदमेँ से टूट गयी थी अंकिता चौधरी, फिर पिता से मिली प्रेरणा से  बन गयी IAS

और वो केमिस्ट्री से अपना स्नातक की पढाई पूरी की और उसके बाद वो यूपीएससी (UPSC) की तैयारी में जुट जाती है लेकिन यही बिच में उनकी माँ का भी निधन हो जाता है लेकिन इसके बाबजूद भी वो हिम्मत नहीं हारती है. और देश के सबसे बड़े लेवल की परीक्षा यूपीएससी (UPSC) में पहली बार में असफल हो जाती है.

लेकिन उनके पिता उनका मनोबल बढाते है और वो दूसरी बार में यूपीएससी (UPSC) में 14वां रैंक लाकर अपने पिता सहित पुरे समाज का मान-सम्मान बढाती है. दोस्तों आज के समय के लड़कियों के लिए अंकिता चौधरी (Ankita Chaudhary) आदर्श है और इनसे सीखना चाहिए की मुश्किल की घडी में कैसे मेहनत करनी है.

Leave a Comment