कलर प्रिंटर से निकालते थे 100, 200 और 500 के नकली नोट, इन शहरों में कर रहे थे खर्च

    0
    142

    शातिर अपराधी ने सोशल मीडिया पर पहले नकली नोट बनाने का वीडियो देखा और इसके बाद भारतीय मुद्रा का हूबहू नकली नोट तैयार किए। आरोपी 500, 200 और 100 रुपए के जाली नोट कलर प्रिंटर से निकालते थे और जाली नोटों को बाजार में चला रहे थे। झालावाड़ पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों में तीन पंजाब के तथा एक मध्यप्रदेश का रहने वाला है। यह कार्रवाई पुलिस की जिला स्पेशल टीम ने की है।

    एसपी मोनिका सैन ने बताया कि 15 अप्रेल को जिला स्पेशल टीम और भवानीमंडी पुलिस की ओर से उच्च क्वालिटी कूटकृत भारतीय जाली मुद्रा तस्करों के खिलाफ संयुक्त कार्रवाई हुए 500 सौ रुपए के 77 नोट कुल 38 हजार 500 रुपए, 200 रुपए मूल्य के 20 नोट कुल चार हजार, 100 रुपए के 37 नोट कुल तीन हजार 700 रुपए भारतीय जाली मुद्रा मय 34 हजार असली मुद्रा के साथ चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

    नकली नोट झालावाड़ में खपा की थी तैयारी- एसपी ने बताया कि संगठित अपराधों की रोकथाम के लिए जिला स्पेशल टीम का गठन किया है। भवानीमंडी क्षेत्र में कुछ समय से जाली मुद्रा के प्रचलन की विश्वस्त सूचना प्राप्त हो रही थी। जिस पर प्रभावी कार्रवाई का जिम्मा डीएसटी टीम को सौंपा गया। जाली मुद्रा तस्करों की झालावाड़ आने की इनपुट मिले। जिस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रकाश शर्मा के निर्देशन में भवानीमंडी थानाधिकारी महेश चारण व डीएसटी के प्रभारी विष्णु प्रसाद के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। टीन ने भवानीमंडी रोड अनंत विहार कॉलोनी में मकान पर दबिश दी। इस दौरान चार जनों को राउण्ड अप किया।

    जिनकी तलाशी ली तो उनके पास भारतीय जाली मुद्रा के 500,200 तथा 100-100 रुपए के जाली नोट बरामद किए गए। जो भारतीय मुद्रा के हूबहू समान प्रतीत होते है। चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रह रही है। आरोपियों ने पूछताछ की जा रही है कि भवानीमंडी के अलावा किन-किन शहरों में नकली नोट चला रहे थे। झालावाड़ व अन्य शहरों में चलाने के पुलिस को इनपुट मिले है।

    पंजाब का वांटेड था आरोपी- एसपी ने बताया कि प्रारम्भिक पूछताछ में सामने आया कि आरेापी संदीप उर्फ कल्लू उर्फ कालू पंजाब पुलिस का पटियाला का वांटेड चल रहा है। वह भवानीमंडी में फर्जी आधार कार्ड बनाकर निवास कर रहा है। शमी उर्फ समीर से पता चला कि उसने सोशल मीडिया पर वीडियो देखकर कलर प्रिंटर से माध्यम से भारतीय जाली मुद्रा बनाना सीखा था। कालू न बताया कि वह तथा मोहम्मद अशरफ उर्फ पम्पू पठान भवानीमंडी में निवासी पचपहाड़ हाल पीली कोठी भवानीमंडी वाले ने एक कमरा आनंद विहार कॉलोनी भवानीमंडी में किराये का एक कमरा दिलाया था। आरोपियों ने स्मैक खरीदने के लिए प्रिंटर के माध्यम से नकली भारतीय रिजर्व बैंक के नकली नोट बना रहे थे। जाली नोट असली जैसे नजर आते थे, जसे आसानी से बाजार में चला दिए जाते हैं।

    गिरफ्तार आरोपी- जाली नोट मामले में पुलिस ने मध्यप्रदेश के श्यामगढ़ चंदवासा निवासी नरेन्द्र कुमार तेली, संदीप कुमार उर्फ कल्लू उर्फ कालू को निवासी पटियाला पंजाब हाल निवासी भवानीमंडी, शमी उर्फ समीर संगरूर पंजाब, तथा सौरव उर्फ बाबू निवासी पटियाला पंजाब को गिरफ्तार किया है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here