लाल भिंडी की फसल कर रहे है किसान, 1kg भिंडी के दाम सुनकर रह जाओगे हैरान

0
509

राजस्थान के बीकानेर जिले के धोरों पर इस बार लाल भिंडी तैयार हो रही है. काशी लालिमा के नाम से पहचानी जाने वाली लाल भिंडी यूरोपियन देशों में होती है. नोखा के किसान कैलाश लूणावत ने अपने खेत में लाल भिंडी के 250 पौधे लगा रखे हैं. डेढ़ महीने बाद भिंडी उगने लगी है. छह महीने तक फसल होती रहेगी. लूणावत ने नेशनल सीड कार्पोरेशन से लाल भिंडी के बीज ऑनलाइन मंगवाए थे.

लाल भिंडी में एंटी ऑक्सीडेंट होता है और इसमें आयरन और कैल्शियम भरपूर मिलता है. कृषि विभाग के उपनिदेशक कैलाश चंद्र बताते हैं कि लाल भिंडी डायबिटीज और हार्ट की बीमारी में फायदेमंद होती है. कैलाश का खेत देखकर लोग चौंक रहे हैं और जानकारी भी ले रहे हैं. कुछ और किसानों ने इसमें दिलचस्पी दिखाई है.

मालामाल हो सकते हैं किसान- किसान कैलाश लूणावत का कहना है कि उन्नत खेती से किसान एक ही सीजन में मालामाल हो सकते हैं. एक किलोग्राम लाल भिंडी की कीमत 400 से 500 रुपये तक हो सकती है. बाजार में हरी भिंडी तो सभी ने देखी है लेकिन लाल भिंडी बाजार में बमुश्मिल दिखती है. लाल भिंडी के प्रति लोगों में आकर्षण अधिक होता है, इस कारण अच्छी कीमत भी मिलती है. साथ ही सामान्य भिंडी के मुकाबले लाल भिंडी में एंटी ऑक्सीडेंट, आयरन और कैल्शियम समेत कई पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं.

नई फसलों की तरफ रुझान बढ़ाना चाहिए- बीकानेर के नोखा के 42 वर्षीय कैलाश लूणावत पेशे से किसान हैं और हमेशा अपनी किसानी को लेकर चर्चा में रहते हैं. नए-नए नवाचार करना इनको अच्छा लगता है. कैलाश नई फसल और किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए नए बीजों का रोपण कर लोगों में जागरूकता भी फैलाते हैं. इनका मानना है कि आमतौर से किसान जगलर फसल पर ही ध्यान केंद्रित करते हैं जिससे उनकी लागत भी बढ़ रही है, मुनाफा भी कम हो रहा है. ऐसे में किसानों को अपने आप में बदलाव करना चाहिए और नई फसलों की तरफ अपना रुझान बढ़ाना चाहिए, इससे उनकी आमदनी भी बढ़ेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here