सलीम खान ने बताया- माँ की मौत के 4 साल पहले से मिलने नहीं दिया गया था, आखिरी दिनों को याद करके हुई आँखे नम

0
878

अभिनेता सलमान खान के पिता सलीम खान बहुत काम मीडिया के सामने आते है वह लाइम से दूर ही रहना पसंद करते है। सलीम खान का जन्म 24 नवंबर 1935 को इंदौर में हुआ था। सलीम खान के पिता और दादा की सरकारी नौकरी थी लेकिन सलीम खान को बॉलीवुड में काम करना था। इसलिए उन्होंने स्क्रीन राइटिंग और फिल्म प्रोडक्शन करना शुरू कर दिया। इस आर्टिकल में हम आपको सलीम खान की जिंदगी के बारे में बताएंगे।

मानो या न मानो, लेकिन एक मां में दुनिया को बदलने की क्षमता होती है। उसका प्यार इस पूरी दुनिया में सबसे पावरफुल है और वो मां ही होती हैं जो अपने बच्चे की पर्सनेलिटी को शेप देती हैं। वहीं अगर किसी बच्चे के सिर से छोटी उम्र में उसकी मां का साया उठ जाए तो इससे ज्यादा दर्दनाक उस बच्चे के लिए कुछ नहीं हो सकता है और वह भी तब, जब वह उसे आखिरी गुडबाय भी न कह पाए। वेटरेन स्क्रीनराइटर सलीम खान नौ साल की नन्ही उम्र में कुछ ऐसे ही दौर से गुजरे थे। वह उस दर्द से आज तक नहीं उबर पाए हैं। लेकिन बचपन के इस अनुभव ने उन्हें काफी बदल दिया।

एक इंटरव्यू के दौरान सलीम खान ने अपनी शुरूआती जिंदगी के कुछ राज खोले थे। सलीम खान ने इंदौर में बिताए अपने बचपन के दिनों के बारे में बताया था। उन्होंने बताया था कि उनका बचपन का अनुभव काफी शानदार था लेकिन इमोश्नल पेन से भरा था। सलीम खान ने कहा था कि उनकी जिंदगी अच्छी थी लेकिन वो ट्रैजिक भी थी। वह अपने परिवार में सबसे छोटे थे और जब वह नौ साल के थे तब उन्होंने अपनी मां को हमेशा के लिए खो दिया था। स्क्रीनराइटर सलीम खान ने बताया था कि मां को टीबी थी इसलिए मां की मौ,त से चार साल पहले से ही उन्हें उनकी मां से नहीं मिलने दिया गया। दरअसल उस समय इस बीमारी का कोई इलाज नहीं था और यह संक्रामक बीमारी थी। यहां तक कि डॉक्टर भी काफी सावधानी बरतते थे। सलीम खान ने बताया था कि उनकी मां टीबी की बीमारी की वजह कम्पाउंड में बनी एक अलग झोपड़ी में रहती थीं। उन्हें वहां खाना पहुंचा दिया जाता था। उनके बर्तन भी अलग रखे जाते थे। हर साल, चार महीने के लिए वह नैनिताल के भोवाली में रहती थी और इंदौर में सर्दियों और बारिश के मौसम में रहा करती थीं।

सलीम खान ने बताया था कि उन्हें अपनी मां को टीबी की बीमारी की वजह से काफी तकलीफ झेलते हुए देखकर काफी दुख पहुंचता था। उन्होंने बताया था कि उनकी मां चार साल तक बिस्तर पर ही रहीं। एक घटना के बारे में जिक्र करते हुए सलीम खान ने बताया कि, “एक दिन मेरी मां बगीचे में बैठी हुई थीं। मैं उनके पास ही खेल रहा था। उन्होंने घर के नौकर से मेरे बारे में पूछा कि यह कौन हैं। जब उन्हें बताया गया कि मैं उनका छोटा बेटा हूं तो उन्होंने मुझे बुलाया। मैं उनके पास जाना चाहता था, लेकिन उन्होंने मुझे मना कर दिया। वह रो रहीं थीं। हालांकि उनके चेहरे पर कोई भाव नहीं था, उनका चेहरा एकदम स्ट्रेट था, लेकिन वह रोती रही थीं।”

सलीम खान ने यह भी खुलासा किया था कि वह अपनी लाइफ के शुरुआती सालों के दौरान अपने पिता के क्लोज नहीं रहे, लेकिन मां की मौ,त के बाद,उनकी उनके पिता के साथ गहरी बॉंडिंग हुई। सलीम खान ने बताया था कि उनके पिता उन्हे सब कुछ लाकर देते थे। वे क्रिकेट के शौकिन थे। जब वह अपने पिता से बॉल या बैट की डिमांड करते तो वह उन्हें एक स्टोर में ले जाते थे। लेकिन मां की मौ,त के एक साल बाद उनकी मौ,त भी हो गई। सलीम कहते हैं कि, जब मेरी मां जिंदा थी तब मैं अपने पिता के करीब नहीं था क्योंकि मैं उनसे डरता था। लेकिन मां की मौ,त के बाद उनके स्वभाव में काफी बदलाव आया और वे काफी सॉफ्ट नेचर के हो गए।

सलीम खान ने बताया था कि बचपन के इस अनुभव के बाद से ही उन्होंने फैसला किया था कि वे अपने बच्चों के साथ काफी दोस्ती भरा व्यवहार करेंगे। उन्होंने कहा था कि उनके बच्चे उनसे खौफ नहीं खाते हैं। वे अपने इश्यू उनके साथ शेयर करते हैं और उनके भावनात्मक रूप से जुड़े हुए हैं। सलीम खान कहते हैं कि वह अपने बच्चो को सलाह देते हैं। और अच्छी बात यह है कि वे भी जानते हैं कि एक अनुभवी व्यक्ति उनसे एक कदम आगे हैं। वे मुझसे ज्यादा ज्ञानी हो सकते हैं और इंटेलिजेंट भी हो सकते हैं, लेकिन वे जानते हैं कि मैं एक अनुभवी इंसान हूं और इसके अलावा कोई ऑप्शन नहीं है।

यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइये। अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये। इसके अलावा आपके पास कोई सवाल और सुझाव है तो आप हमें ईमेल के जरिये संपर्क कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here