इस बार बोर्ड की परीक्षा नए नियमों के साथ होगी, पहली बार फ़ैल होने का नियम भी जोड़ा गया

0
199

पूरे दो साल बाद राजस्थान में रविवार को 8वीं बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हुईं. जयपुर जिले में 1,20,118 लाख छात्रों ने परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था, जिनमें से  1,17,880 छात्र परीक्षा में शामिल हुए. बता दें कि कोरोना महामारी के चलते पिछले दो साल से छात्रों को बिना परीक्षा के ही पास किया जाता रहा, लेकिन इस बार छात्रों को न केवल परीक्षा देनी होगी बल्कि पासिंग मार्क्स भी लाने होंगे. पासिंग मार्क्स न लाने पर छात्रों को फेल किया जाएगा

पहली बार जोड़ा गया फेल करने का प्रावधान- जानकारी के लिए बता दें कि इस परीक्षा में पहली बार छात्रों को फेल करने का प्रावधान जोड़ा गया है. यदि कोई छात्र किसी प्रश्न का सही जवाब नहीं देता है तो उसे फेल किया जा सकता है. केंद्र सरकार ने शिक्षा का अधिकार कानून में संशोधन करते हुए डेढ़ साल पहले ही यह व्यवस्था लागू कर दी थी.

ग्रेडिंग सिस्टम में किया गया संशोधन- परीक्षा के नए नियमों के तहत ‘ई’ ग्रेड लाने वाले स्टूडेंट्स को पास होने के लिए सप्लीमेंट्री परीक्षा देनी होगी. वहीं कक्षा 8 में पूर्व में लागू ग्रेडिंग स्केल में भी संशोधन किया गया है. अब 86-100 अंक लाने पर ग्रेड ‘ए’, 71-85 पर ग्रेड ‘बी’ और 0-32 अंक  लाने पर ‘ई’ ग्रेड दिया जाएगा. नए नियमों के अनुसार ई ग्रेड लाने पर छात्र को अगली कक्षा में प्रवेश नहीं मिलेगा. उसे पहले सप्लीमेंट्री परीक्षा देनी होगी. वहीं जिन छात्रों ने रविवार को हुआ पहला पेपर नहीं दिया है वो सप्लीमेंट्री परीक्षा में शामिल हो सकेंगे, लेकिन इसके लिए उन्हें बाकी सारे पेपर देने होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here