राजस्थान के इस युवा पर पुलिस अफसर बनने का जुनून, 07 सरकारी नौकरियां छोड़ कर बना RPS अफसर

कहते हैं अगर कोई मन मे कुछ करने का ठान ले तो वो अपनी मंजिल को पाकर ही दम लेता है। चाहे इसके लिए उसे कितने ही पड़ाव से गुजरना पड़े।राजस्थान के नागौर के युवा धर्मेंद्र डूकिया के मन में राजस्थान पुलिस का इतना जुनून है कि उसने सात अलग-अलग नौकरियों में चयन होने के बाद भी खुद को खपाए रखा।

नागौर जिले के छोटे से गांव कुचेरा के निवासी धर्मेंद्र डूकिया राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी हैं। वर्तमान में वो बाड़मेर के चौहटन में पुलिस उपाधीक्षक पद पर पोस्टेड हैं।किसान परिवार से आने वाले धर्मेंद पर खाकी का इस कदर जूनन था कि उन्होंने सात सरकारी नौकरियों में चयन होने के बावजूद उसे छोड़ कर आरएएस की तैयारी में जुट गए।

धर्मेंद्र अपने पहले ही प्रयास में 56वी रैंक से चयनित हुए और उन्होंने आरपीएस जॉइन किया।वर्ष 2011 में धर्मेंद्र डूकिया जयपुर डिस्कॉम में कॉमर्शियल सीए, वर्ष 2012 में इंडियन रेलवे में ट्रैफिक अप्रेंटिस, वर्ष 2013 में सीआईसीएफ में सब-इंस्पेक्टर, वर्ष 2014 में एसएसबी में असिस्टेंट कमांडेंट

साल 2015 में आईबी में एसीआईओ, 2016 में नगर निकाय रेवेन्यू इंस्पेक्टर और इसी साल आईसीएआर में डबल एओ की नौकरी से आगे बढ़ते हुए वर्ष 2016 में राजस्थान पुलिस सेवा को जॉइन किया।

बाड़मेर के चौहटन के पुलिस उपअधीक्षक धर्मेंद्र डूकिया बताते है कि लक्ष्य को पाने के लिए की गई सतत मेहनत ही उसे आपके करीब लाती है।अगर मुश्किलें आने पर इंसान थक जाता है तो वो कभी अपनी मंजिल को नहीं पा सकता है। वो बताते है कि उनकी कई बार सरकारी नौकरी लगी लेकिन उन्होंने खाकी के जुनून में उन्होंने पढ़ाई जारी रखा।

Leave a Comment