क्या सोने और चांदी होगी महंगी? जानिए आने वाले दिनों में क्या रहेगी सोने की कीमत

0
138

घटनाओं के एक रोमांचक मोड़ में, अप्रैल से सोने की कीमतों में गिरावट आई है, खासकर जब शेयर बाजार वाइल्ड रहा है। बढ़ती मुद्रास्फीति और भू-राजनीतिक घटनाओं ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को पलट कर रख दिया है। महंगाई जेब जला रही है, शेयर बाजार उथल-पुथल का सामना कर रहा है, और सुरक्षित-संपत्ति (सेफ हेवन एसेट) होने के बावजूद सोने की कीमतों में गिरावट आ रही है। बाजार में उतार-चढ़ाव के दौर में निवेशक सुरक्षित और पारंपरिक संपत्ति जैसे सोने की ओर रुख करते हैं, लेकिन इस बार मांग प्रभावित हुई है। घरेलू सोने की कीमतें अप्रैल के शिखर रु. 54,380/10 ग्राम से 7% गिरकर रु. 50,450/10 ग्राम पर आ गई हैं।

सोने को इन्फ्लेशन हेज माना जाता है जो शेयर बाजार के खिलाफ चलता है। वित्तीय सलाहकार निवेशकों के पोर्टफोलियो को कुशन प्रदान करने के लिए सोने में कुछ पूंजी आवंटित करने की सलाह देते हैं। हालांकि, वास्तविक ब्याज दरों में गिरावट के बावजूद पीली धातु की दरों में बढ़ोतरी नहीं हो रही है।

क्या निवेशकों को चिंतित होना चाहिए?- सोने की कीमतों में गिरावट की वजह यूएस डॉलर और यूएस बॉन्ड यील्ड है। डॉलर मजबूत होता जा रहा है, और फेड चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने दरों में आगे होने वाली बढ़ोतरी की घोषणा करने के कारण यूएस ट्रेजरी यील्ड्स में वृद्धि हुई है। इसने निवेशकों को परेशान कर दिया है, और वे अब अमेरिकी डॉलर पर भारी दांव लगा रहे हैं, जिससे यह दिन-ब-दिन मजबूत होता जा रहा है। जब डॉलर अन्य मुद्राओं की तुलना में मजबूत होता है, तब सोना खरीदारों को कम आकर्षित करता है।

आगे क्या हो सकता है?- सोने की कीमतें तभी बढ़ेंगी जब डॉलर का मूल्य कम होगा, मुद्रास्फीति कम होगी और रूस-यूक्रेन युद्ध समाप्त होगा। यूरोप में महीनों से चल रहा युद्ध आपूर्ति श्रृंखला की समस्या और मुद्रा की अस्थिरता का कारण बन गया है। लोगों के लिए सोना खरीदना अब आसान हो जाएगा, लेकिन बढ़ती महंगाई से खरीदारी सीमित हो जाएगी। तब तक, अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाएं और कुल पोर्टफोलियो मूल्य का 10-15% तक सोने में संपत्ति आवंटित करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here